• manishprasadthapliyal 6w

    हमको रोज़ बाहों में भरना पास बुला के दूर करना सीख रहे वो भी प्यार करना सीख रहे वो भी प्यार करना शायरों के महफिलों के दर ना आशिक हो तो फिर कैसा डरना? सीख रहे वो भी प्यार करना