• inpeace__ 10w

    देख ज़िंदाँ से परे रंग-ए-चमन जोश-ए-बहार
    रक़्स करना है तो फिर पाँव की ज़ंजीर न देख


    -मजरूह सुल्तानपुरी