• _shivay 51w

    पल

    मुझे याद है वो पल
    जब बेचैनी के आलम में
    मेरी नजरें तेरी नजरों से मिली थी
    इक पल को सब ठहरा था
    आसमां खाली, चाँद जमीं पर उतरा था
    आँखों के काजल का हुआ ये असर
    दिल भी बहका था मेरा
    साँसे भी बहकी थी।



    ©_shivay