• harekrishna 35w

    मैं के जंजाल में सब फ़ंसे, सबमें मैं, मैं सबमें, देखो माया जाल है।।।
    समय भी मैं है, काल भी मैं, मैं ही महाकाल हैं।।।
    मैं छोडूं या अपनाऊँ मैं, मैं मुझमे और मुझमे मैं, शून्य ही मैं का कपाल है।।।।।।

    Read More

    मैं.....!!!!!

    ©harekrishna