• bhartigurjar 10w

    Thankyou so much ♥♥

    Read More



    दिल की गहराई में छुपा रखा था तुम को
    शायद तुमने रुकना मुनासिब नहीं समझा।
    ©bhartigurjar