• ravisinghcancer 5w

    अंधेरों का मुसाफ़िर था
    रोशनी से गुज़रता क्यूं

    ग़म उसकी मंज़िल थी
    खुशियों में उतरता क्यूं


    By - Azeem Haider Syed