• kahani 23w

    Kahani

    ये कहानी पूरी ख़्वाबों के जज़्बातों से भरी थी ,
    ना जाने वो कोंसा मोड़ आया
    और नींद तोड़ गया ।
    मानो की कुछ देर तक आँखें खोलने की हिम्मत नहीं हुई , लगा सपना है फिरसे आजेगा ।