• kajalsingh25 5w

    तेरा यूँ आना और आकर चले जाना...
    यूँ ही मुस्कुराना गज़ब ढा गया....
    यूँ नज़रें मिलाना या गले से लगाना...
    यूँ छिपकर के देखना गज़ब ढा गया..
    छत पर बुलाना यूँ गलियों मे मिलना...
    तेरा इशारा यूँ करना गज़ब ढा गया..
    यूँ लहरा कर चलना या बल खा कर चलना..
    तेरा यूँ झगडना गज़ब ढा गया..

    ©kajalsingh25