• alfaazeqaasid 6w

    मैंने पिता के कंधे पर बच्चे को उछलते देखा है,

    पिता की अर्थी उठाकर उसी बच्चे को चलते देखा है

    हाँ..!, मैंने वक्त बदलते देखा है।

    ©Alfaaz-e-qaasid