• abhishekmanukumar 22w

    आपने जितनी नज़्म पढ़ी है महफ़िल में आजतक
    उससे ज्यादा हम दिल में
    दिल को सुना के रह गये