• piharawa 5w

    हिंदूस्तान जिंदाबाद, पाकिस्तान जिंदाबाद इन चीखते चिल्लाते नारों के बीच कई सवाल थे। मैं इसे अपना मुल्क कहूं, लोग धड़ाधड़ क्यों मर रहे थे। इन सब सवालों के एक मुख्तलिफ जवाब थे, एक ¨हिंदूस्तानी जवाब, एक पाकिस्तानी जवाब एक ¨हिंदू जवाब और एक मुसलमान जवाब। कोई इसे 1857 के खंडहर में ढूंढता है तो कोई इसे मुगलिया हुकूमत के मलबे में टटोलने की कोशिश करता है। सब पीछे देख रहे हैं लेकिन आज के कातिल लहू और लोहे से तारीख लिखते जा रहे हैं। ये मजनून सुनाते सुनाते आप सब से मार खा लूंगा लेकिन ¨ हिंदू मुस्लिम फसाद में अगर कोई मेरा सर फोड़ दे तो मेरे खून की हर बूंद रोती रहेगी.. - Sadat Hassan Manto