• adityakalsar 5w

    तुने हर बार मुझसे ही जुदा होनेकी
    बजहे ढूंढी ।

    मगर उन लाखों बजहॉ को नजर अंदाज कर
    क्यो तू दूसरे की होकर निभाती रही
    शायद तूने मुझसे प्यार किया ही नहीं
    होगा