• shubhamwrites 5w

    तुझे रोज़ देखूँ क़रीब से,
    मेरे शौक़ भी कितने अजीब से !

    - Shubham Jitendra Pandey