• aahan0906 6w

    फिर टूटे काँच के टुकड़े, घर से निकाले जा रहे हैं,
    यूँ यादों के दरख्त, हमारे आँगन से काटे जा रहे हैं।
    ~आहान अग्रवाल

    ©aahan0906