• dilalfaaz 10w

    जो मेरा था, अब वो पराया हो गया ।
    मुश्किल रास्ते पे अकेला सा कर गया ।

    क्यों पूछा ?
    पर जवाब ना आया;

    मेरी खुशी,
    क्यों खुदा तू देख ना पाया !

    क्या मांगा तुझसे, में खुश ही तो था ।
    उसका अलविदा कहना क्या मेरे नसीब मे ही था ?

    तूने किया होगा तो तु ज़रूर सही करेगा,
    जो मेरा था उसे क्या कोई दुर्र करेगा ।

    ©dilalfaaz