• ankurkumarpassi 24w

    Yahaan sab apraadhi hai...

    कभी 9/11 तो कभी 26/11
    कभी पेशावर में बच्चे तो कभी सीरिया
    ऐसे ही ना जाने कितने हमले हुए होंगे
    इतने वारो के बाद तो इंसानियत के खात्मे के चर्चे हुए होंगे
    ध्यान से देखो दूर लाशो का एक ढेर लगा है
    बच्चे बूढ़े आदमी औरत न जाने कौन कौन मरा है
    अब तो कोई उम्मीद भी नज़र नही आती है
    फिर भी सब सही हो जायेगा ये बात अक्सर कही जाती है
    इंसान तो तरक्की कर रहा है पर इंसानियत का क्या
    चारो तरफ फैल चुकी है और जो फैल रही है उस हैवानियत का क्या
    पूरा विश्व धुंध से घिरा हुआ है कौनसा रास्ता किधर जा रहा है क्या पता बस चलते जा रहे हैं
    सब बस सीधा चले जा रहे हैं रास्ते में जो मिल रहा है उसे कुचल कर आगे बढ़ते जा रहे हैं
    कुछ नज़रअंदाज किये जा रहें हैं तो कुछ तमाशबीन बने हुए हैं
    यहाँ सब अपराधी है सबके मुह पे कालिख सबके हाथ खून स सने हुए हैं
    ©ankurkumarpassi