• motwanimahek 5w

    मकसद जो तुमको मान लिया था,

    वरना खुद से रुबरु तो मैं कबका हो जाता।



    ©motwanimahek