• vardhantesoro 10w

    रोज़ का चलना ,ठहरना नहीं
    मंज़िल ढूंढ़ना, अकेले मरना नहीं।
    जब मिलेंगी उचाइयाँ,
    उसे बिठाऊँगा जमीं पर।
    औक़ात में अब वो,
    हमसे ऊपर तो नहीं।।

    ©vardhantesoro