• dr_pradeep_sehgal 30w

    वक़्त

    कभी नहीं रोयेगी नन्ही गौरैया ...
    वृष्टि हो चाहे अंतहीन ...
    घूमड़ करे उसे नीड़ विहीन ...
    कभी नहीं रोयेगी नन्ही गौरैया ...
    जोड़ कर तिनका - तिनका ...
    जैसे ...
    आडी - तिरछी रेखाएं जीवन की...
    फ़िर से गुंजन...
    फिर से स्पंदन ....
    फिर से धड़कन ..
    --आगोश एहसासों का...
    --निर्माण घरौंदे का...
    कभी नहीं रोयेगी नन्ही गौरैया...

    ©dr_pradeep_sehgal