• divyap 10w

    Pyar

    मोहब्बत की शुरुआत भी तू ने की थी उसका अंत भी तूने किया दर्द भी तुमने दिया मरहम लगाने पर तू आया देखकर आंसू मेरी आंखों में घबराकर पास भी मेरे आया डराता भी तू है रुलाता भी तू है प्यार से फिर हम को मनाते अभी तू है बोलते हो कि हम बोलते बहुत हैं चुप बैठे हो तो बात करने पर बोलते हो कि बोलते बहुत हैं समझते भी तुम हो नासमझ भी बनते हो
    ©divyap