• arshaabrar 6w

    बड़ी शकसियतो से कराबत क्या यार हुई,
    असल दोस्ती थी वो दरकीनार हुई।
    चुराई थी निगाहे किसी फटे हाल यार से कभी,
    उसी ने बचाई इज़्ज़त जब इज़्ज़त मेरी तार-तार हुई ।

    ©ARSHA_abrar