• emotionsinked 22w

    वो दौर ही कुछ और था
    जब खामोशियों में भी हमारी शोर हुआ करती है,
    अब बातें भी होती है पर जज़्बात जैसे चुप से हो गए हैं ।