• akarshita29 76w

    कुछ न कुछ ,
    करते तो सभी है।
    इस असीम सम्भावनाओं ,
    से भरी दुनिया में।
    लेक़िन वो कुछ ही होते हैं,
    जो करते हैं।
    कुछ कर जाने के लिए।
    ख़ुद को पाने के लिए।
    ख़ुद का क्यों तराशने के लिए।
    ख़ुद का वजूद ,अपने दिल की धड़कन
    पहचानने के लिए।
    खुद का जुनून, ख़ुद की जिद
    पाने के लिए।
    अक्सर ख़ुद में युँ डूब जाने के लिए।
    अपने दिल की आवाज़ को ,
    अपने रंधों के सहारे ,
    पूरा कर जाने के लिए।।
    ©akarshita29