• muskankhan05 9w

    Thoughtful

    जरूरतें तो भिखारी की भी पूरी हो जाती हैं ,
    ख्वाहिशे तो राजा महाराजाओं की भी पूरी नहीं हो पाती हैं।
    ©muskankhan05