• sahib05 5w

    'नदी'

    तुम इतना चल कर के मुझ तक आते आते
    थकती क्यों नहीं?
    तुम्हें खेलने का शौक है तो मेरी जिंदगी से
    बहती क्यों नहीं?