• hashtag_writes 31w

    परिन्दा

    कमरे की चार दीवारो मे एक परेशान परिन्दा है,
    जो बस लोगो की बातों और सिगरेट के धुए मे ज़िन्दा है,
    वो घर मे खुद को महफूज महसूस करता है,
    क्योंकि बाहर चलता हर इन्सान दरिन्दा है,
    अब वो राम नहीं मानता, वो कुरान नहीं मानता,
    इस वजह से उसका महजब भी शर्मीन्दा है !


    ©hashtag_writes