• kkundanam31892 10w

    कब तक सहे

    दर्द को कोई कब तक सहे!!
    जीवन में कभी तो हो गहगहे!!

    हर वक़्त ख़ामोश रहता है वो
    और जुवां से कुछ भी न कहे!!

    उसके दिल में गहराई बहुत है
    कुछ बात रह गए हैं अनकहे!!

    हम भी चाहते मंज़िल मिले मुझे
    पर जीवन के रस्ते होते है दोमुहे!!

    सबकी बस श्रृंगार की ही खातिर
    कुंदन हर वक़्त क्यों तपता ही रहे!!
    ©kkundanam31892