• promeetsrivastava 24w

    रातों का अंधेरा भी अब कम लगने लगा था,
    जो उनके लगाए काज़ल पे हम फ़िदा थे.

    ©promeetsrivastava