• promeetsrivastava 23w

    कहा लुफ़्त-ए-ग़म उठा सकोगे तुम,
    किसी और के होने के बावजूद भी,
    कहा अपने लबों पे मेरे लबों का वो एहसास मिटा सकोगे तुम.

    ©promeetsrivastava