• riwayate_alfaazo_ki 5w

    अक्सर अकेलेपन में हमने कलम को ही साथ पाया है,
    यहीं कारण है लोगों से ज़्यादा हमने इस पर विश्वास जताया है,
    फ़रेबी तो इंसानो की आदत बन चुकी है ज़माने में,
    बस इसी को तो हमने अपने हर अल्फाज़ो को कदम बना कर चलते पाया है ।।।।


    ©riwayate_alfaazo_ki