• aarti_singh 9w

    Humari sher-o-shayariya to zamane se waqif h ,
    Par humari jaan pehchan to sirf tere ashaar se h !!!

    Duniya bhar ki gazale rakhi h paas mere ,
    Gum ki pyaas mit'ti meri , Tere ek Sher k vaar se h !!!

    Har mod par khade the Mera hath thaamne wale ,
    Jeena magar aaya , teri nafrat par mere aitbaar se h !!!

    Jab likhta tha mere liye , to sunana b tha na ,
    Meri saanse tujhse nhi , Teri Kalam ki risti dhaar se h !!!

    Kaha to na tha k lautega , par Kal Tere khat pahunche ,
    Ab jine ka maksad "Aarti" , Sanam k intezaar se h !!!

    @gunjit_jain shukriya bahot chhota h Bhai , par abhi isse Kaam Chala le , thank u Hindi me type karke Dene k liye ,apna time Dene k liye ....

    Mujhe Hindi keypad use karna nhi aata xddddd ......

    Read More

    2

    हमारी शेर-ओ-शायरियां तो ज़माने से वाकिफ़ हैं,
    पर जान पहचान तो सिर्फ तेरे अश'आर से है।

    दुनिया भर की ग़ज़लें रक्खीं है पास मिरे, ग़म
    की प्यास मिटती मेरी, तेरे एक शेर के वार से है।

    हर मोड़ पर खड़े थे मेरा हाथ थामने वाले,
    जीना मगर आया, तेरी नफरत, मेरे ऐतबार से है।

    जब लिखता था मेरे लिए, तो सुनाना भी था ना,
    मेरी साँसे तुझसे नहीं, तेरी कलम की रिसती धार से है !

    कहा तो न था कि लौटेगा, पर कल तेरे खत पहुंचे,
    अब जीने का मक़सद आरती, सनम के इंतज़ार से है।
    ©aarti_singh