• ranasunidhisingh 8w

    न जाने तेरे ये चाहत के छीटे,
    मेरे धड़कन मे इश्क का आग क्यों जला रहे है ।
    ©ranasunidhisingh