• akarshitasingh_ 5w

    कितना कुछ है जीने को फ़िर भी जो नहीं है, हम हमेशा उसी में जीते हैं।
    ©akarshitasingh_