• riakeshri 9w

    #चाहती_थी

    चाहती थी घूमना मै भी
    तेरे साथ अनजाने शहर
    नापना चाहती थी
    तेरे संग
    समुंदर और आकाश
    चाहती मचल जाना
    आइसक्रीम या चॉकलेट जैसी
    बचकानी ज़िद के लिए
    तोड़ना चाहती थी
    तेरे इश्क़ में लापरवाह
    कुछ मर्यादाये
    एक निर्जल स्त्री की तरह
    रूठना चाहती थी तब तक
    जब तक तू मना ना ले
    तेरे साथ का संबल
    पर तेरी दुनिया में
    तुझसे तेरी शर्तों पर
    प्यार करने के आलावा सब प्रतिबंधित था
    धीरे-धीरे
    टूटने लगे सपने
    फिर उम्मीद टूटी
    फिर मै
    अब आलम ये है कि
    खुद को संभालने में लगी हूं
    और तू दूर तक कही नहीं
    तेरी आहट भी नहीं
    तेरे होने का हौसला भी नहीं...


    ©riakeshri