• amandeep2001 5w

    #चाँद

    साहिलो को समन्दर आबाज देता है सपनो को एक शहर अबाज देता है तू चाहती है नकार के मैं इस जमाने को मे रोशनी केबल तुजी मे ढूँढू

    बो चाँद क्या पागल है जो हर रोज आवाज देता है