• quotesbym_akbar 6w

    #mjqaddar = luck,. #khanjar = knife
    #shehriyat = citizenship #manzar = sight
    #mas'alla = difficulty #mukhlis = loyal
    #muddat = a long period of time
    #mirakee #writersnetwork

    Read More

    تقدیر

    मिलती है एक नई मुसीबत हर मोड़ पर हमें
    आएं हैं हम यहां ये कैसा मुक़द्दर लिए हुए।

    कहने को तो हैं दोस्त बहुत से यहां अपने
    बैठे हैं पर सभी हाथ में ख़ंजर लिए हुए।

    साबित ना कर सका शहरियत यहां अपनी
    दर- दर फिरा वो हाथ में क़ाग़ज़ लिए हुए।

    रंज ये है कि उनको बता ही सके ना हम
    बैठे रहे दिल में हसरत ओ अरमां लिए हुए।

    गुजरी है एक अज़ाब की तरह ज़िन्दगी अपनी
    जीते रहे फिर भी हम होंठों पे मुस्कां लिए हुए।

    आए जो ख़्वाब में वो तो फिर नींद आए क्यों?
    जागे तमाम रात आंखों में हसीन एक मज़ंर लिए हुए।

    है मसअला दोस्त एक मुख़्लिस ओ हमदर्द ढूंढना
    मिलते हैं सब यहां बहुत से चेहरे लिए हुए।

    दुनिया की जुस्तजू में है अकबर तू इस क़दर मगन
    मुद्दत हुई तुझको ख़ुद अपनी ख़बर लिए हुए।
    ©quotesbym_akbar