• preet_alfaa_z 23w

    प्रेमिका

    श्वेत धवल चाँद, मद्धम उसकी चांदनी,
    प्रेम भरा आंचल, प्रेमिका मेरी मंदाकिनी.

    हिरनी चाल है, चले बजती है सरगम,
    केश कृष्ण घटा, अंचल लहराए परचम

    सांझ की लालिमा, दीया बन हरती अंधकार,
    स्वपन की रागी वह, बोले तो बहती मल्हार

    कजरी नयन वाली, मुस्कुरा दे जैसे बहार,
    सूर स्वर तरंगनी, कंठ कोयल सा साकार

    शीतल सा स्पर्श, सुंदर अजंता का आकार,
    शांत स्वभाव सबकी प्रिय, कायल हो जाए संसार