• amritpalsinghgogia 6w

    159 गुमशुदा

    हम आधे अधूरे से घूमते रहे तमाम उम्र।
    ढूँढते रहे वो आलम जिसका पता नहीं।
    जो जीवित था वो भी गुमशुदा हो गया।
    अब तो पाली’ का भी अता-पता नहीं।।
    अमृत पाल सिंह ‘पाली’