• quaintrelle07 10w

    बड़ी सादगी से देखे थे मेने
    कुछ ख्वाब
    मुकम्मल करने को
    एक वक्त ऐसा आया
    के मिटते गए सब ख्वाब
    धीरे धीरे
    जैसे कागज़ पे लिखे अल्फाज़ो पे
    बरसात हुयी हो
    बिलकुल उसी तरह
    सब तरफ स्याही और स्याही ही हो गयी
    और प्रकृति के इस खेल से
    मेरी जिंदगी पे
    गीले अल्फाज़ो का
    'काला धब्बा'
    कायम वैसा का वैसा ही रह गया |
    ~Vaishnavi ♥️