• poetsaanjh 5w

    All Right © Reserved by Poet SaanJh
    I have all rights reserved for any legal issue & Don't copied it's legal 9811033207 Feedback

    Read More

    दर्द

    || ये दर्द अब दर्द नही नासूर हो चला है ||
    || गम इश्क़ बेवफाई के आगे टूट चुका है ||

    || ना रही हिम्मत अपनी वफ़ा सबित करने की ||
    || बेवफा के आगे मेरा प्यार बदनाम हो चला है ||

    || इश्क़ से नज़दीकियों का बस यही सिला है ||
    || पल में टूट जाते रिश्तो का क्या उस अजनबी को पता है ||

    || ख़ैर आखिर अपनी बेगुनाही साबित करना बड़ा मुश्किल ||
    || उसने इस अदालत को चंद सिक्को से तोल रखा है ||

    ©-SaanJh
    (The Arrogant Poet)
    www.facebook.com/PoetSaanJh
    poetsannjh.blogspot.com
    All Rights Reserved 2019 By- Poet SaanJh
    Credit- Akash Narayan