• sudershan 22w

    बाहर

    बाहर तुम ज्यादा हो
    पर एक दिन भीतर के रास्ते
    दीप तक पहुंचना है...प्रार्थना लिये