• ovi___ 5w

    डूबने दो कुछ रातों को ग़म में,
    हंसने के लिए तो पूरी ज़िंदगी रखी है।