• aanujbachhav 5w

    रोया में अकेला छुपाए आँसु तकिये मे,
    रात गुज़र गयीं, क़ोन है मेरा ये सोचने मे...
    ©aanujbachhav