• yashashvigupta_07 10w

    बर्बाद ❤

    तमन्नाऐं नहीं बख्शतीं अच्छे खासे आदमी को
    इश्क़ करने वाले बर्बाद, ना करने वाले भी बर्बाद।
    लिखी जाएंगी जब कहानियाँ शबनमी रातों की
    लिखा जाएगा सभी के हिस्से में एक लफ्ज़, बर्बाद।
    तखय्युल में पाले हुए हक़ीक़त को आईना माने बैठे!
    यादें बिखेर देंगी तुमको फिर हो जाओगे बर्बाद।
    कहाँ सुकूं मिलता है आदमी को इस फानी जहाँ में
    जाम में डूबे तो तबाही, गोद में सोए तो बर्बाद।