• narendra_singh_kanwar 5w

    घुटन

    यूं मन को टटोलती हैं अंतर्आत्मा मेरी,
    बेदम हो चुका हूं,इन घुटती सांसाें से।।

    ©narendra_singh_kanwar