• mmuzammil2310 5w

    Mere Ehsas-Mere Alfaaz

    सच तो ये है कि तुम चाहते ही नहीं,
    कोई विवेकानन्द या कोई कलाम पैदा हो!
    तुम्हे है फिक्र बस कुर्सी बचाने की,
    तुम्हे क्या फर्क जो भी हालात पैदा हों!
    ©mmuzammil2310