• saifwrites 6w

    लर्ज़िश - trembling, quivering
    हम-सुख़न - to speak together, to agree with someone
    नक़्श - mark, print

    @sanawrites_ @sparshwrites_ @akashrs @ek_villan

    Read More

    मेरे होंठों की लर्ज़िश देख तू ऐं मेरे हम-सुख़न
    मैं उसका नाम लेता हूँ दीवारें...कांप उठती हैं

    किसी भूले हुये इंसान की.. धुंधली हुयी तस्वीर
    दिल में नक़्श करता हूँ तो सांसें कांप उठती हैं

    हमें तो साथ जीना और हमें तो साथ मरना था
    तुझे गैरों पे मरता देख...निगाहें कांप उठती हैं

    मेरी दहलीज़ से हो कर हवायें जब गुजरती हैं
    गुजरना तेरा याद आये तो राहें कांप उठती हैं

    ©सैफ अल्वी