• satyankit 23w

    ख़्वाब

    कुछ ख्वाब उन्होंने भी पाले है।
    जिनको मुश्किल से मिलते निवाले है।
    अब वो दिल की आब-ओ-हवा के हवाले है।
    सारे अरमान आंसुओ से निकाले है।
    दर्द को वो छोड़ते ही नहीं अब भी संभाले है।
    ©satyankit