• yashashvigupta_07 6w

    कुछ पा सकू तो
    बस निश्चिंतता
    इतना कि,
    कैद न हो सके,
    कोई दर्द , न चीखें
    न ही आँसू,
    इस मन की कोठरी में.....