• diaryofapoet 22w

    जुराबें लम्बी और
    जेबें छोटी होती थीं,
    बचपन की मुसीबतें
    कितनी हसीन होती थीं।


    ।शुभम खमपरिया।
    ©diaryofapoet